ब्रेकिंग न्यूज

क्राइम

जगदीश करोतिया की बहू ने खोले पूरे हत्याकांड के राज 20 घंटे लाश लेकर घूमते रहे परिवार के हत्यारें

Deepak Sungra - indoreexpress.com 12-Jan-2019 05:55 am


इंदौर (सुरेश कपोनिया)।
कांग्रेस नेत्री ट्विंकल डागरे की हत्या के मामले में भाजपा नेता भाजपा नेता जगदीश करोतिया, उसके बेटे अजय और साथी द्वारा हत्या करना कबूलने के बाद पुलिस अब इस मामले का आज क्रमवार खुलासा करेगी। बताया जाता है कि इस केस में आरोपी भी और बढ़ेंगे। पुलिस ने जहां दो आरोपियों की गिरफ्तारी दर्शाई है वहीं दो को हिरासत में भी ले रखा है। सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने जब जगदीश करोतिया की बहू पर अलग अलग पूछताछ के दौरान मनोवैज्ञानिक दबाव यह कहकर बनाया कि आपके पति ने हत्या करना कबूल किया है तो उसने सारा राज उगल दिया और बताया कि किस प्रकार यह हत्या की गई। ट्ंिवकल की हत्या के मामले में पुलिस ने जगदीश करोतिया उर्फ कल्लू पहलवान के नौकर लखन सूर्यवंशी को हिरासत में लिया था। जब उससे सख्ती से पूछताछ की तो एक के बाद एक कडिय़ां जुड़ती गई और इस हत्याकांड का खुलासा हो गया। पुलिस की पूछताछ में लखन ने बताया था कि ट्विंकल को सांवेर रोड स्थित अवंतिका नगर में पानी की टंकी के समीप जलाकर दबाया था। इस जानकारी के बाद कल्लू (पूर्व महामंत्री) अजय करोतिया (पूर्व एल्डरमैन), विजय और विनय को हिरासत में लिया गया। इनसे भी सख्ती पूछताछ की गई तो अजय टूट गया। उसने कहा कि ट्विंकल से पिता के संबंध थे। इसे लेकर घर में अकसर विवाद होता रहता था। 16 अक्टूबर 2016 को सुबह करीब 11 बजे ट्विंकल घर आई थी। इस दौरान उसे मार दिया। हत्या के बाद शव को कार में रखकर सांवेर रोड ले गए और जला दिया। पुलिस के मुताबिक आरोपित कभी घर में, कभी खेत और ईंट भट्टे पर मारना बता रहा है। वारदात में अजय के दोस्त नीलू कश्यप के शामिल होने की भी जानकारी मिली है। आज पुलिस इस हत्याकांड का क्रमवार खुलासा करेगी। ट्विंकल के अपहरण से लेकर उसकी हत्या करने और फिर शव को जलाकर साक्ष्य मिटाने तक की पूरी जानकारी देगी। वहीं मामले में एएसपी प्रशांत चौबे ने बताया कि जो साक्ष्य मिले हैं उनकी जांच कराई जाएगी।
बना ली थी हत्या की योजना
पुलिस को जांच में पता चला कि करोतिया परिवार ने टिविंकल को मारने की योजना पहले ही बना ली थी। पुलिस के शक की सुर्इं टिविंकल के पिता संजय डागरे पर घुमे इसके लिए करोतिया पिता-पुत्र ने टिविंकल के मोबाइल से उन्हें मैसेज भी किए। कुछ इमोशनल मैसेज अजय और विनय को भी किए गए। टिविंकल की हत्या के बाद जब उसके लापता होने का मामला परिजन ने उठाया तो पुलिस जांच में जुट गई।
पहले ही रोक देते थे पुलिस को
पुलिस इस मामले का खुलासा काफी समय पहले ही कर देती, लेकिन उस समय के सत्ताधारी दल के नेता पुलिस को किसी भी प्रकार की कार्रवाई करने से रोक देते थे। सूत्रों बताते हैं कि मामले में एक टीआई को तो यहां से हटाने की धमकी मिली थी।
पुलिस अधिकारी भी यह मानते है कि इस हत्याकांड में पहले ही खुलासा हो जाना चाहिए था।
जानकारी छिपाने वाले भी आएंगे घेरे में
पुलिस सूत्रों के मुताबिक जांच में पता चला है कि मामले में परिवार की महिलाओं को भी टिविंकल की हत्या की जानकारी थी लेकिन वे चुप रही। पुलिस महिलाओं को भी आरोपी बना सकती है। इसके अलावा वे भी इस मामले में आरोपी बनेंगे, जिन्होंने आरोपियों का साथ दिया।

ताज़ा खबर

अपना इंदौर