ब्रेकिंग न्यूज

इंदौर

भय्यू महाराज को बेटी ने दी मुखाग्नि, अंतिम संस्कार के वक्त मौजूद नहीं थीं दूसरी पत्नी

Deepak Sungra - indoreexpress.com 14-Jun-2018 04:39 am


इंदौर (सुरेश कपोनिया) भय्यू महाराज का बुधवार शाम 3.45 बजे भमोरी श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनकी बेटी कुहू ने उन्हें मुखाग्नि दी। विश्राम घाट पर अंतिम संस्कार के दौरान उनकी दूसरी पत्नी डॉ. आयुषी मौजूद नहीं थीं। इससे पहले पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए बापट चौराहे स्थित उनके सूर्योदय आश्रम में रखा गया था। भय्यू महाराज ने मंगलवार दोपहर अपने स्प्रिंग वैली स्थित घर पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी।
श्रद्धांजलि देने पहुंचीं कई शख्सियत
केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले, मंत्री पंकजा मुंडे, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के ओएसडी श्रीकांत, मध्य प्रदेश सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री कम्प्यूटर बाबा ने भय्यू महाराज को श्रद्धांजलि दी।
मध्य प्रदेश सरकार का कोई मंत्री नहीं पहुंचा
मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज भय्यू महाराज की पहली पत्नी के निधन पर सपरिवार श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। हालांकि, बुधवार को भमोरी घाट पर वे नहीं आए और ना ही उनकी कैबिनेट का कोई मंत्री।
भय्यू महाराज ने नरेंद्र मोदी का उपवास तुड़वाया था और अन्ना हजारे का अनशन भी। लेकिन, वे या उनका कोई प्रतिनिधि यहां नहीं आया। भय्यू महाराज विलासराव देशमुख के भी करीबी माने जाते थे। लेकिन, उनका कोई प्रतिनिधि भी यहां नहीं पहुंच पाया।
पत्नी और बेटी में दिखीं दूरियां
भय्यू महाराज के आश्रम में पत्नी आयुषी और बेटी कुहू एक ही गाड़ी में आईं, लेकिन इस दौरान दोनों ने एक-दूसरे की तरफ देखा तक नहीं। कुहू ने ये भी कहा था कि डॉ. आयुषी के कारण ही पिता ने ये कदम उठाया था। उधर, पत्नी आयुषी ने कहा था कि कुहू को मैं पसंद नहीं थी, लेकिन गुरुजी के साथ मैं अच्छे से रह रही थी।
सुसाइड नोट में सेवादार विनायक को जिम्मेदारी देने का जिक्र
पुलिस को मिले सुसाइड नोट मेें भय्यू महाराज ने अपने सेवादार विनायक को सारी जिम्मेदारी सौंपने की बात कही है। कयास ये भी लगाए जा रहे हैं कि आश्रम की जिम्मेदारी बेटी कुहू भी ले सकती हैं। वे पहले भी आश्रम के कार्यक्रमों में शामिल होती रही हैं।
विनायक करीब 20 साल पहले भय्यू महाराज के संपर्क में आया। इसके बाद से ही भय्यू महाराज ने उसे आश्रम और घर के सारे कामों का जिम्मा सौंप दिया। उसे घर के सदस्य जैसा दर्जा दिया था।

ताज़ा खबर

अपना इंदौर